रायडू या केएल राहुल नहीं, इस खिलाड़ी से नंबर 4 पर बल्लेबाजी करवाना चाहते हैं सौरव गांगुली - Latest Hindi Khabar

Breaking

Post Top Ad

शुक्रवार, 15 मार्च 2019

रायडू या केएल राहुल नहीं, इस खिलाड़ी से नंबर 4 पर बल्लेबाजी करवाना चाहते हैं सौरव गांगुली

sourav ganguly

विश्व कप से पहले ऑस्ट्रेलिया के साथ खेली गई आखिरी वनडे सीरीज भारतीय टीम 3-2 से हार गई है। ऑस्ट्रेलिया के साथ सीरीज खेलने से पहले भारतीय टीम जैसा प्रदर्शन कर रही थी, उससे लग रहा था कि भारतीय टीम विश्व कप के लिए पूरी तरह से तैयार है। लेकिन इस सीरीज में हारने के बाद भारतीय टीम में काफी समस्याएं नजर आ रही हैं।

ambati raydu and lokesh rahul

भारतीय टीम ने सीरीज के पहले दो मुकाबलों में जीत हासिल की तो ऐसे में विराट कोहली ने सीरीज के अंतिम मैचों में एक्सपेरिमेंट करने की सोची। इस एक्सपेरिमेंट में नंबर 4 पर बल्लेबाजी की समस्या नजर आई। पहले तीन मैचों में अंबाती रायडू नंबर 4 पर बिल्कुल फ्लॉप साबित हुए। इसके बाद चौथे मैच में नंबर 4 पर कप्तान कोहली ने बल्लेबाजी की, जबकि पांचवें वनडे मैच में ऋषभ पंत को आजमाया गया। लेकिन ये दोनों खिलाड़ी भी असफल साबित हुए। भारतीय टीम को सीरीज में हार झेलनी पड़ी।

cheteshwar pujara

हाल ही में भारतीय टीम के पूर्व कप्तान सौरव गांगुली से इस सवाल के बारे में पूछा गया तो उन्होंने जो जवाब दिया, उसे जानकर सब लोग हैरान रह गए। सौरव गांगुली ने कहा कि नंबर 4 पर बल्लेबाजी के लिए टेस्ट मैच स्पेशलिस्ट चेतेश्वर पुजारा सबसे फिट हैं। सौरव गांगुली ने कहा- मैं बस यही कहूंगा। लेकिन पता नहीं आप मानेंगे या नहीं। जो लोग ये बात सुनेंगे, वो हंसेंगे या नहीं। लेकिन मैं नंबर चार पर पुजारा को बेहतर समझता हूं।

मुझे पता है उनकी फील्डिंग थोड़ी कमजोर है। लेकिन उनमें टिक्कर बल्लेबाजी करने की काबिलियत है। उन्होंने ऑस्ट्रेलिया में टेस्ट सीरीज में जिस तरह से प्रदर्शन किया, उसके बाद मेरे टॉप ऑर्डर में रोहित शर्मा, शिखर धवन, विराट कोहली, चेतेश्वर पुजारा, महेंद्र सिंह धोनी और केदार जाधव शामिल हैं। सौरव गांगुली ने पुजारा की तुलना राहुल द्रविड़ से की। उन्होंने कहा लोग- यह सोच रहे होंगे कि पुजारा का नाम कहां से आ गया। लेकिन आप क्वालिटी बल्लेबाज चाहते हैं तो इनसे बेहतर कोई नहीं हो सकता। भारतीय टीम में जो रोल राहुल द्रविड़ निभाते थे, वह भारत के लिए अब चेतेश्वर पुजारा निभा सकते हैं। अगर मैं होता तो 6 महीने यह फैसला लेता।
loading...

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें